Categories
विविध

एक चिट्ठाकार मिलन कैनाडा में

कल परसों मुझे सौभाग्य प्राप्त हुआ 2006 के सर्वश्रेष्ठ उदीयमान चिट्ठाकार (तरकश सम्मान प्राप्त) और इंडीब्लॉगीज़-2006 के सर्वोत्तम हिन्दी ब्लॉगर से मिलने का। जी हाँ, टोरोंटो की अपनी संक्षिप्त यात्रा के दौरान, मुझे उड़नतश्तरी की स्वर्ण-कलम के पीछे छिपे स्वर्णिम व्यक्तित्व के स्वामी समीर लाल जी से और उन के परिवार से उन के घर पर मिलने का मौका मिला।

कैनाडा जाने का कार्यक्रम अचानक बन गया था। मुझे और मेरी पत्नी को किसी ज़रूरी काम से वहाँ जाना पड़ा। तय हुआ कि सोमवार को यहाँ से ड्राइव कर के जाएँगे और मंगल को वापस आएँगे। कुल मिला कर 1800 किलोमीटर के करीब का सफर। कुल ड्राइविंग समय 18 घंटे। यह मेरे लिए सब से थकाने वाली यात्राओं में से था। पहले यह सफर दर्जनों बार कर चुका हूँ, पर वहाँ पहुँच कर एकाध दिन रुकना होता था। एक तरफ की यात्रा लगभग 900 किलोमीटर है, और इस बार वहाँ रात को रुकना था, सुबह उठकर एक दफ्तर में जा कर काम भी करना था, और वापसी की यात्रा भी करनी थी। इस बीच में ऐसा लग रहा था कि सब से मिल भी नहीं पाएँगे, शायद सभी काम भी न हो पाएँ। पर जैसे तैसे सब निबटाया और वापसी यात्रा आरंभ करने से पहले समीर जी से भी मिल लिए।

समीर लाल से मिल कर ऐसा नहीं लगा कि पहली बार मिल रहा हूँ। उन के लेखन से परिचित होने के कारण उन के व्यक्तित्व की भी एक झलक बनी हुई थी, और उन के चित्रों से उन्हें पहचानने में भी दिक्कत नहीं आनी थी। शायद अनजाने में भी बाज़ार आदि में मिल जाते तो मैं पहचान लेता। फिर एक विशेष आत्मीयता से भरा व्यक्तित्व और हिन्दी चिट्ठाकारी का अपनत्व। यह बात शायद ही किसी और रिश्ते में हो सकती है।

समीर लाल और रमण कौल

मैं उन चिट्ठाकारों के बारे में सोच रहा था जिन से मैं मिल चुका हूँ, और मेरा ध्यान इस बात की ओर गया कि वे लोग इंडीब्लॉगीज़ से किसी न किसी तरह से जुड़े हुए हैं। यह मेरा सौभाग्य ही समझिए कि मेरा पहला मिलन (जो कि हिन्दी चिट्ठाकारी का भी पहला मिलन था) इंडीब्लॉगीज़-2004 के विजेता अतुल अरोरा से हुआ। पिछले वर्ष पुणे की यात्रा के दौरान इंडीब्लॉगीज़-2005 के विजेता शशि सिंह से भेंट होते होते रह गई। उन से बस फोन पर बात हो पाई, और दूसरे विजेता अनूप शुक्ला से भी फोन पर ही बात हो पाई थी। पर उस की भरपाई की थी पुणे में इंडीब्लॉगीज़ के रचयिता देबाशीष से मुलाकात कर के। और अब 2006 के विजेता समीर लाल जी। 2007 के विजेता कृपया आगे आएँ। हमें अगली विज़िट प्लान करनी है।